Diyan

हरिद्वार में फंसे खटीमा के लोगों ने मांगी मदद, सोशल मीडिया पर वीडियो जारी कर दर्द किया साझा

खटीमा से हरिद्वार में नौकरी-मजदूरी की तलाश में गये कई लोग लॉकडाउन के बाद वहीं फंस गये हैं। इन लोगों ने सोशल मीडिया पर वीडियो जारी कर अपना दर्द साझा किया है। उनका कहना है कि फैक्ट्रियां बंद होने से उनकी रोजी छिन गयी है। उनके पास पैसे भी नहीं है। उन्होंने सरकार से उन्हें घर पहुंचाने की गुहार लगायी है।

सरकार ने गुरुवार को भी सुबह सात बजे से दस बजे तक किराना की दुकानें और सब्जी की दुकानें खुलने के निर्देश दिए थे। वहीं जिला प्रशासन ने खटीमा में एक ही परिवार के सात लोगों के संदिग्ध कोरोना प्रभावित होने के बाद धारा 144 लागू कर दी थी। इस दोनों आदेशों के बीच लोग संशय में रहे और सुबह सात बजे से दस बजे के बीच फिर लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन हुआ।

इस दौरान पुलिस ने सख्ती से घर से बाहर निकले लोगों से पूछताछ की और गैरजरूरी काम से बाहर निकले लोगों के चालान काटे। उधर, हरिद्वार में नौकरी करने वाले खटीमा के कुछ लोग वहीं फंस गये हैं। उन्होंने घर पहुंचाने की गुहार लगाई है। बुधवार को जिला प्रशासन ने सुबह सात बजे से दस बजे तक किराना और सब्जी की दुकानों को खोलने की छूट दी थी। वहीं बुधवार शाम को खटीमा के इस्लामनगर नगर में एक ही परिवार के सात लोगों के संदिग्ध कोरोना प्रभावित होने के अंदेशे में उनके सैंपल लेते हुए उन्हें आइसोलेशन वार्ड में रखा गया था।

इसके बाद जिला प्रशासन ने शाम को पूरे जिले में धारा 144 लागू करते हुए सुबह लॉकडाउन में दी जाने वाली छूट को भी बंद कर दिया था। वहीं गुरुवार को लोग संशय में रहे और कई लोग सड़कों पर आए। कोतवाल कैलाश चन्द्र भट्ट ने बताया कि सड़कों पर निकलने वाले लोगों के चालान काटने के साथ ही उन्हें कोरोना के प्रति जागरूक किया जा रहा है। बेहद अनिर्वाय कार्य से निकले व्यक्ति से इस संबंध में पपत्र मांगे जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि लोग अब कम सड़क पर निकल रहे हैं। उन्होंने लोगों से कोरोना से बचाव के लिए घर में ही रहने की अपील की है।

Show More

Leave a Reply

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker